google.com, pub-8785851238242117, DIRECT, f08c47fec0942fa0 नटराज कि प्रतिमा में भगवान शिव के पैरों में पड़े "अपस्मार" की कथा। Story of Apasmaar and Lord Shiv. - पौराणिक दुर्लभ कथाएं

भारत एक बहुत आध्यात्मिक देश है। यंहा हिन्दू सभ्यता विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता है। यह वेदों ,पुराणों, प्राचीन मंदिरों, धार्मिक स्थलों का देश है। भारत के मंदिरों और देवी देवताओं की प्राचीन एवम दुर्लभ कथाये है जिसे यंहा प्रस्तुत किया गया है। आध्यात्मिक कथाये, दुर्लभ कथाये, मंदिरो की कथाये, ज्योतिर्लिंग की कथाये।

19 August, 2019

नटराज कि प्रतिमा में भगवान शिव के पैरों में पड़े "अपस्मार" की कथा। Story of Apasmaar and Lord Shiv.

अपस्मार की कथा जो भगवान शिव से जुड़ी है:

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, अपस्मार एक बौना था जो अज्ञानता और मिर्गी का प्रतिनिधित्व करता था। उन्हें मुयालका या मुल्याकन के रूप में भी जाना जाता है। दुनिया में ज्ञान को संरक्षित करने के लिए, अपस्मार को नहीं मारा जा सकता था। अगर ऐसा करने के लिए ज्ञान और अज्ञान के संतुलन को बाहर कर दिया जाएगा - जैसा कि अपस्मार को मारने का मतलब होगा प्रयास, समर्पण और कड़ी मेहनत के बिना ज्ञान प्राप्त करना। नतीजतन, यह सभी रूपों में ज्ञान के अवमूल्यन के लिए प्रेरित करेगा। 

आपस्मरा को वश में करने के लिए, भगवान शिव ने नटराज - नृत्य के भगवान के रूप को अपनाया और एक अलौकिक नृत्य का प्रदर्शन किया। इस नृत्य के दौरान, नटराज ने अपने दाहिने पैर से कुचलकर अपस्मरा को दबा दिया। जैसा कि अप्समास अमरता के लिए नियत कुछ राक्षसों में से एक है, ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव हमेशा के लिए अपसमार दमन करते हुये उसी मुद्रा के बने हुए है बने हुए हैं।




अपस्मार और भगवान शिव और माता आदिशक्ति की कथा:


कुछ पौराणिक कथाओ के अनुसार एक बार अपस्मार जो कि एक बौना राक्षस था और उसके पास कई शक्तियां थी, उसने अपनी शक्तियों के मद में माता आदिशक्ति पे एक ऐसे मंत्र का प्रयोग किया जिससे माता आदिशक्ति की समस्त शक्तियां चिह्रीं हो गयी। 
हालांकि यह बहुत कम समय के लिए हुआ था परंतु महादेव उसके इस कृत्य से बहुत क्रोधित हुए। और उन्होंने नटराज का रूप रखकर अलौकिक नृत्य करने लगे ।



महादेव के प्रचंड तांडव और डमरू कर ध्वनि से अपस्मार के मस्तिस्क की नसें फटने लगी और वो महादेव के चरणों मे आकर गिर गया। नटराज ने अपने दाहिने पैर से कुचलकर अपस्मरा को दबा दिया। जैसा कि अप्समास अमरता के लिए नियत कुछ राक्षसों में से एक है, ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव हमेशा के लिए अपस्मार का दमन करते हुये उसी मुद्रा के बने हुए है बने हुए हैं।

No comments:

Post a Comment