google.com, pub-8785851238242117, DIRECT, f08c47fec0942fa0 केदारनाथ ज्योतिर्लिंग कि कथा। Rare story of Kedarnath Jyotirlinga - पौराणिक दुर्लभ कथाएं

भारत एक बहुत आध्यात्मिक देश है। यंहा हिन्दू सभ्यता विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता है। यह वेदों ,पुराणों, प्राचीन मंदिरों, धार्मिक स्थलों का देश है। भारत के मंदिरों और देवी देवताओं की प्राचीन एवम दुर्लभ कथाये है जिसे यंहा प्रस्तुत किया गया है। आध्यात्मिक कथाये, दुर्लभ कथाये, मंदिरो की कथाये, ज्योतिर्लिंग की कथाये।

29 December, 2018

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग कि कथा। Rare story of Kedarnath Jyotirlinga

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग


उत्तराखंड के हिमाचल स्थित केदारनाथ ज्योतिर्लिंग भगवान शिव का बहुत ही मन मोहक मंदिर है। ये भगवान शिव केबारह ज्योतिर्लिंग में से एक है।
शिव पुराण के अनुसार भगवान विष्णु के अवतार "नर" एवम "नारायण" ने भगवान शिव की बहुत घोर तपश्या की थी, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव प्रगट हुए।
तब नर तथा नारायण ने उनसे वंही पर स्थित होकर भक्तो के कल्याण के लिए सदा कृपा बनाए रखने का आशीर्वाद मागा।

तब भगवान शिव वंही ज्योतिर्लिंग स्वरूप में स्थित हो गए।

केदारनाथ मंदिर का महत्व


केदारनाथ मंदिर बहुत ही रमणीय है, प्रतिवर्ष लगभग पांच महीने के लिए मंदिर भक्तो के लिए बंद कर दिया जाता है क्योंकि बहुत ज्यादा बर्फ बारी होती है।
विगत वर्ष जल प्रलय हुआ जिसमें भी इस मंदिर में कोई नुकसान नही हुआ।

वैज्ञानिको के अनुसार भारत मे एक सूक्ष्म हिमयुग हुआ था जिसके कारण पूरा हिमालय बर्फ में दब गया था, जिसके कारण लगभग चार सौ वर्षों तक मंदिर बर्फ में दबा रहा फिर भी मंदिर को नुकसान नही हुआ।

No comments:

Post a Comment